Posts

Magnetic Hill ke ansuljhe rehsya/ मैगनेटिक हिल्स के अनसुलझे रहस्य

परिचय- हेल्लो दोस्तो आज हम जानेंगे magnetic Hill के अनसुलझे रहस्यों के बारे में हमारी ये पूरी दुनियां रहस्यों से भरी पड़ी है इन में से कुछ रहस्यों को सुलझा लिया गया है तथा कुछ आज भी अनसुलझे ही हैं ऐसा ही एक अनसुलझा रहस्य है Magnetic Hill का जो इंसानों के लिए चर्चा का विषय बना हुआ है।
MagneticHill ke ansuljhe rehsya- मैगनेटिक हिल्स के अनसुलझा रहस्य-

Magnetic Hill  लेह -लाद्दख के एक हाइवे पर स्तिथ है इसकी खास बात ये है कि यहां  पर कोई भी गाड़ी बंद करने के बाद भी  खड़ी चढ़ाई पर काफी तेजी से खुद चलने लगती है । गाड़ी ही नहीं बल्कि पानी को भी नीचे डालने पर विपरीत दिशा में बहने लगता है।

श्रीनगर लेह लद्दाख के इस रहस्यम हाईवे के बारे में कहीं कहानियां प्रचलित हैं- जैसे-
वहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि इस जगह पर कही सदियों पहले स्वर्ग का रास्ता हुआ करता था।अगर आप उस रास्ते पर चलेंगे तो खुद स्वर्ग में पहुंच जाएंगे और अगर आप ने अपने जीवन में पाप किए हैं तो आप बिल्कुल भी आगे नहीं बढ़ पाएंगे।
Magnetic Hill के बारे में वैज्ञानक तथ्य-• वैज्ञानिकों का कहना है कि इस जगह पर चुंबिय हस्तक्षेप ( मैगने…

रूपकुंड झील के अनसुलझे रहस्य /roopkund jheel ke unsuljhe rehsya -

Image
हमारा देश में आज भी कही ऐसे अनसुलझे रहस्य हैं जिनके बारे में अभी तक कोई नहीं जान पाया है
ऐसे ही एक अनसुलझा रहस्य है रूपकुंड झील का ।
रूपकुंड झील के अनसुलझे रहस्य /roopkund jheel ke unsuljhe rehsya -  रूपकुंड झील उत्तराखंड के चमोली जिले के गोपेश्वरनाथ में स्तिथ है। बर्फीली चोटियां के बीच बसा ये इलाका प्राचीन काल से ही धार्मिक आस्थाओं का केंद्र रहा है। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई  5000 मी0 है ।
इस झील को आम भाषा में कंकालों कि झील के नाम भी जाना जाता है ।
क्यूंकि इसके आस पास हज़ारों की संख्या में कंकाल तंत्र मिलते हैं ।
उत्तराखंड में इसके बारे में कहीं लोक कथाएं प्रचलित हैं - 1-ऐसा माना जाता है कि कैलाश जाते समय मां नंदा देवी को प्यास लगी थी उन्होंने इसके बारे में भगवान शिव को बताया भगवान शिव ने अपना त्रिशूल से उस जगह पे पानी उत्पन कर दिया था पानी पीते वक्त नंदा देवी ने उस कुंड में अपना चेहरा देखा तो उन्हें ये कुंड पसंद आ गया ।इसके बाद से ही इस कुंड को रूपकुंड के नाम से जाने जाना  लगा ।
उत्तराखंड के कहीं लोक गीतों और जागरों में भी इस रहस्य मय झील का  जिक्र किया गया है।यहा लोग नंदा देवी की …

जोन ऑफ साइलेंस' (zone of silence) के रहस्य ,जहां हर चीज काम करना बंद कर देती है.

Image
हेल्लो दोस्तों आज हम जानेंगे ' जोन ऑफ साइलेंस'(zone of silence) के कुछ अनसुलझे व अजीबोगरीब रहस्यों के बारे में ।
हमारी इस दुनिया में आज भी कुछ जगह ऐसी हैं
जिनका रहस्य वैज्ञानिक आज भी नहीं सुलझा पाए हैं ।

 इसमें एक नाम आता है जॉन ऑफ साइलेंस का जो स्तिथ है नोर्थ अमेरिका के मैक्सिको सिटी में।

                       Zone of silence
जोन ऑफ साइलेंस के रहस्य ( 'zone of silence'ke rehsya)- मैक्सिको में स्तिथ यह जगह बहुत ही आजीबोगरीब और बिचित्र है । इसकी खास बात यह है कि यहां आने पर सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण अपना काम करना बंद कर देते हैं।
कहा जाता है कि यहां किसी भी प्रकार की रेडिओ फ्रीक्वेंसी काम नहीं करती है।
जोन ऑफ साइलेंस तब सामने आया जब सन 1938 में वहां पर उल्का पिंड गिरा था।
  जोन ऑफ साइलेंस (zone of silence) के बारे में वैज्ञानिकों का दावा - वैज्ञानकों और सोधकर्ताओं ने अपनी खोज में बताया कि वहां पर कोई भी सिग्नल काम नहीं कर सकता ।
 इस क्षेत्र के अधिक चुंभिकिय होने के कारण एक dark zone बनता है।
जो रहस्यम तरीके से इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को बंद कर देता है।
स्थानीय लोग इसे ऎलियन…

bermuda triangle ke rahasya / बरमूडा ट्रायंगल के रहस्य

Image
हेल्लो दोस्तों आज हम जानेंगे Barmuda Triangale के कुछ अनसुलझे रहस्यों के बारे में।



हमारी इस दुनियां में आज भी कही ऐसे राज या रहस्य हैं जो कि अभी तक अनसुलझे हैं। इन्हीं में से एक नाम आता है barmuda triangle
अगर हम समुद्रों की बात करे तो अभी तक केवल लगभग 5% ही इसके बारे में जान पाए हैं। लगभग 95% अभी भी अज्ञात है।

Barmuda Triangle ke rehsya (बरमुडा  के रहस्य) -  Barmuda Triangle दुनियां के अनसुलझे रहस्यों में से एक है ।इसके नजदीक से आज तक जितने भी जहाज गुजरे हैं उनका कहीं पता नहीं चला है। जहाजों में सावर यात्रियों का क्या हुआ वो लोग कहां गायब हो गए ?
 ये आज भी एक रहस्य बना हुआ है।

आश्चर्यजक घटना-  5 दिसम्बर 1945 में अमेरिकन नेवी के 14 सैनिकों ने अपने लड़ाकू विमान से फ्लोरिडा से उड़ान भरी कुछ ही दूरी तय करने के बाद उनके  कम्पास ने काम करना बंद कर दिया तथा समुंद्र में भी अजीब सी हरकते होने लगी और उन सैनिकों के सामने बादलों की सुरंग दिखने लगी और तभी उनका संपर्क टूट गया उसके बाद उनका कही पता नहीं चला।
उसी दिन एक और जहाज को भेजा गया टेकआफ के 27 मिनट बाद ही उसका भी कहीं पता नहीं चला ।हर साल ब…

डेथ वेली के बारे में कुछ अनसुलझे रहस्य /death valley Kiya hai ?/ डेथ वेली क्या है ?/Death valley ke baare me kuch unsuljhe rehsya

Image
हेल्लो दोस्तों आज हम जानेंगे death valley  के कुछ अनसुलझे रहस्यों के बारे में।


हमारी इस पूरी दुनियां में आज भी कुछ जगह  ऐसी   है जो एक रहस्य बनी हुई हैं इन्हीं में से एक है death valley जिसे मौत की घाटी के नाम से जाना जाता है।
जो स्तिथ है अमेरिका के कैलiफोर्निया में .
दुनियां के सबसे गर्म रेगिस्तानों में एक Daeth valley  का नाम भी जोड़ा जाता है।

डेथ वेली के बारे में कुछ अनसुलझे रहस्य /Death valley ke baare me kuch unsuljhe rehsya - इस गर्म रेगिस्तान में काफी मात्रा में बड़े बड़े पत्थर मौजुद हैं । इतने विशालकाय होने के बाद भी ये पत्थर अपनी जगह निरंतर बदलते रहते हैं।

जिससे पूरे रेगिस्तान में इसके निशान देखने को मिलते  हैं।
सुरुआती दौर में अमेरिका आने वाले लोग इसी रास्ते से गुजरते थे जिसके कारण हजारों लोगों की   इस गर्म और सूखे रेगिस्तान में मौत हो जाती थी।
इसलिए इसे death valley  या मौत कि घाटी का  नाम दिया गया।

वैज्ञानिकों ने जब इस घाटी का अध्ययन किया  तो इसमें हजारों की संख्या में रहस्यमय तरीके  से इंसानों और जानवरों के कंकाल तंत्र मिले।

Death valley के पत्थरों का एक जगह से दूसरी जगह…

dwinaam paddhati kiya hai ?/duinaam padhati ke niyam/द्विनाम पद्धति क्या है/तथा द्विनाम पद्धति के नियम

Image
Hello Dosto🙏
  आज हम जानेंगे जीवों के नामकरण की द्विनाम पध्दति (binomial nomenclature) के बारे में तथा इसके नियमों के बारे में.
द्विनाम पध्दति (binomial nomenclature)  तथा वर्गीकी के जन्मदाता  (father of taxonomy) स्वीडन के एक महान जीव वैज्ञानिक, तथा चिकित्सक कार्ल लिनियस(carolus Linnaeus)
 को माना जाता है जिन्होने 1953 ई. में द्विनाम पध्दति कि आधुनिक व्याख्या की.


   द्विनाम पध्दति   के अनुसार-
 हर जीव धारियों का नाम लैटिन भाषा के दो शब्दों  से बना हुआ है । 1- पहला  शब्द वंस नाम (genetic name)   2- दूसरा शब्द जाति (species name )  वंश तथा जाति नाम के बाद उसे वर्गीकी ( वैज्ञानिक) का नाम लिखा जाता है
जिसने सबसे पहले उस जाति को खोजा या जिसने इस जाति का सबसे पहले नाम दिया है ।
जैसे - मानव का वैज्ञानिक नाम होमो सेपियंस लिन्न है । वैसे होमो उस वंश का नाम है जिसकी एक जाति Sapiens है। तथा लिन , लिनियस शब्द का एक संछिप्त रूप है इसका मतलब यह है कि लिनियस ने सबसे पहले जाति को होमो सेपियंस नाम दिया था।
जैसे
कुछ जीव धारियों के  वैधानिक नाम इस प्रकार हैं-
1- मानव - (homo Sapiens)
2- धान - (orzya s…

Jaiv vikash kya hai?/ jav vikas ke sidhant in hindi / जैव विकास क्या है ? / जैव विकास के सिद्धांत ?

Image
हेलो दोस्तों आज हम जानेंगे जैव विकास (organic evolution)क्या है? तथा जैव विकास कि विशेषताओं के बारे में।
विकास का  शाब्दिक अर्थ होता है छिपी हुई वस्तु के बारे में समय समय पर हुए परिवर्तन को जानना ।
जीव विज्ञान(बायोलॉजी) की वह शाखा जिसमें जीव जंतुओं तथा
 उनकी पीढ़ियों में हूए कर्मिक परिवर्तनों का अध्ययन किया जाता है जैव विकास कहलाता है। जैव विकास एक धीमी गति से होने वाला क्रमिक परिवर्तन है ।
जैव विकास के सिद्धांत-(theories of evolution) - जैव विकास कि प्रतिक्रिया को समझाने के लिए समय समय पर अनेक वैज्ञानिकों ने अपने सिद्धांत व्यक्त किए जिनमें से तीन मुख्य सिद्धांत माने जाते हैं।
1- डार्विनवाद 2- लामार्कवाद 3-उत्तपरिर्वतन वाद डार्विनवाद (Darwinism) - ब्रिटेन के महान वैज्ञानिक चार्ल्स रोबर्ट डार्विन ने जैव विकास के संबंध में प्राकृतिक वरण ( netural selection) का सिद्धांत दिया जिसे डार्विनवाद के नाम से जाना जाता है । डार्विन ने 20 सालों के कठीन परिश्रम के बाद साल 1859 में विकास के संबंध में अपने सिद्धांतों को "प्राकृतिक वरण द्वारा जातियों की उत्पति "(origin of species by neutral…